Pair ko lagne wali chot


पैर को लगने वाली चोट संभल कर चलना सिखाती है
और…..
मन को लगने वाली चोट समझदारी से जीना सिखाती है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *